Sunday, August 10, 2014

इन्द्रधनुषी राखी



सेदोका
1-कृष्णा वर्मा
1
या ढ्योढ़ी
अँगना -सी बहना
रक्षाबन्धन प्यार
भाई-बहन
बीते बचपन की
यादों का चित्रहार ।
2
राखी त्योहार
सावन- सी बहनें
भइया के आँगन
ठंडी फुहार
दुआओं मढ़ी तार
बाँधे बहना प्यार
-0-
2-रेनु चन्द्रा
1
सजधज के
स्नेही राखी लेकर
प्यारी बहना आई
प्यार बाँधके
भाई की कलाई पे
बहन इतराई ।
2
राखी त्योहार
सूना हो गया जब
प्यारा भाई ना आया
बहना रोई
राखी लेकर साथ
इन्तजार में खोई ।
-0-
ताँका
1-रेखा रोहतगी
1
वर्षा बहना
इन्द्रधनुषी राखी
लेकर आई
हर्षे गगन भैया
धूप खिलखिलाई ।
2
लाया सावन
अँखियों में भीगता
 वो बचपन
झूला झुलाता भैया
चहकता आँगन ।
3
प्यार तुलता
पैसों-उपहारों में
रेशमी धागे
बचा न पाएँ रिश्ते
इस स्वार्थ के आगे ।
4
पहली राखी
ब्याह के बाद आई
छाईं खुशियाँ
जब बहना आई
खनकाती चूड़ियाँ ।
5
'राखी' पे मिलें
सारे बहन-भाई
ढूँढ़ें अँखियाँ
भोले बचपन की
खोई हुई सखियाँ ।
-0-
2-मंजु गुप्ता
1
रक्षा पर्व पे
यादों का बचपन
झूमे दिल में
बाँधी पावन राखी
प्रेम कलाई पर।
2
रक्षाबन्धन
दीदी - भाई  का प्यार
खिले राखी से
श्रावणी पूनम पे
दे खुशियाँ अनंत ।
-0-
3-शान्ति पुरोहित
1
रक्षाबंधन
बहन की उमंग
भाई माँ जाया
लेती बलाएँ लाखों
सलामत हो भैया ।
2
पवित्र धागा
भाई कलाई बाँधे
रक्षा की आस
स्नेहिल आस्था भैया
अनुपम सौगात
-0-

7 comments:

  1. सभी सेदोका बहुत ही सुंदर...भाव, शिल्प हर दृष्‍टि से। रचानाकारों को राखी की बधाई और शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  2. बहुत सरस , सुन्दर सेदोका और ताँका ...हार्दिक शुभकामनाएँ ...बधाई आ कृष्णा जी ,रेनु जी ,रेखा जी मंजु जी एवं शान्ति पुरोहित जी

    ReplyDelete
  3. सभ बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  4. मुझे भी सभी के सेदोको उत्कृष्ट लगे .
    अभी का आभार .

    ReplyDelete
  5. बहुत भावपूर्ण और सुन्दर सेदोका और तांका...सब को हार्दिक बधाई...|

    ReplyDelete
  6. अतुलनीय पंक्तियां

    ReplyDelete